Rasmalai Recipe in Hindi- रसमलाई रेसिपी

हमारे WhatsApp Group से जुड़े Join Now

दोस्तों, रस मलाई, रस मालेई, या रसोमलाई भी कहा जाता है, यह स्वादिष्ट व्यंजन पूरे भारतीय उपमहाद्वीप में पसंद किया जाता है। Rasmalai एक स्वादिष्ट बंगाली मिठाई है, जिसे ताज़ा छेना के गोले से बनाया जाता है और मलाई में भिगोया जाता है। त्यौहारी सीज़न के दौरान घर पर अवश्य आज़माएँ। Rasmalai एक बहुत ही स्वादिष्ट और मुँह में पानी ला देने वाली बंगाली रेसिपी है। मीठे केसर युक्त दूध में भारतीय पनीर बॉल्स।

Rasmalai

यह मिठाई आमतौर पर ठंडी परोसी जाती है। इसे बड़ो से बच्चों सभी को बेहद पसंद आने वाला डिश है। और इसे आप घर पे इन आसान तरीको से किसी भी त्यौहार या ज़ब मन हो बनाकर खिला सकते है। और आपने अगर अब तक इस रेसिपी को ट्राई नहीं किया है तो हमारी बताई रेसिपी की मदद से इसे आसानी से बना सकते हैं। नीचे बताई गयी इस आसान रेसिपी को किसी भी त्यौहार में या किसी आम दिन बनाकर तरत करे।

Rasmalai बनाने के लिए समाग्री :

दोस्तों, Rasmalai एक स्वादिष्ट बंगाली मिठाई है, जिसे ताज़ा छेना के गोले से बनाया जाता है और मलाई में भिगोया जाता है। त्यौहारी सीज़न के दौरान या किसी भी त्यौहार में घर पर जरूर बनाये।

  • लीटर टोंड दूध ( गाय का)
  • 1 लीटर फुल फैट दूध
  • 2 बड़े चम्मच नींबू का रस
  • 2 चम्मच कॉर्नफ्लोर
  • 1 से 8 चम्मच बेकिंग पाउडर
  • 1 और 1 से 4 कप चीनी
  •  5 कप पानी
  • 2 से 3 इलायची (कुटी हुई)
  • 2 बड़े चम्मच काजू
  • 1 चम्मच इलायची पाउडर
  • 15 से 20 रेशे केसर
  • 1 से 2 चम्मच गुलाब जल

Rasmalai बनाने की विधि :

  • सबसे पहले एक बर्तन में 2 लीटर टोंड दूध डालकर गैस पे गर्म करें।
  • अब उबाल आ जाने पर गैस को बंद कर दें। 
  • और फिर नींबू का रस डाले दे। 
  • और फिर कुछ ही समय में दूध तुरंत फट जाएगा। 
  • फटे हुए दूध में तुरंत 2 कप बर्फ के टुकड़े डालें दे।
  • फटे हुए दूध को पनीर के एक कपड़े में छान लीजिए।
  • नींबू के रस के निशान हटाने के लिए पनीर को बहते पानी के नीचे धो लें।
  • पनीर से सारा मट्ठा निकालने के लिए पनीर के कपड़े को एक घंटे के लिए लटका दें।
  • इस बीच, एक भारी तले वाले पैन में फुल फैट दूध गर्म करें।
  • केसर डालें और धीमी आंच पर तब तक पकाएं जब तक दूध आधा न रह जाए।
  • एक ब्लेंडर में 1 से 4 कप चीनी और काजू डालकर ब्लेंड कर लें।
  • अब कम किया हुआ दूध डालें। 
  • गुलाब जल और इलायची पाउडर डालकर अच्छी तरह मिला लें।
  • घटे हुए दूध को एक तरफ रख दें। 
  • छैना को पनीर के कपड़े से निकाल लीजिये।
  • कॉर्नफ्लोर और बेकिंग पाउडर डालें।
  • अब छैना को हथेलियों से 6 से 8 मिनिट तक मलाईदार होने तक अच्छे से मसलिये। 
  • छेने से 12 से 14 बराबर आकार की लोइयां बना लीजिये।
  • लोइयों को थोड़ा सा चपटा कर लीजिये।
  • प्रेशर कुकर में डेढ़ कप चीनी और पानी गर्म करें।
  • जब पानी में उबाल आ जाए तो इसमें छेने के गोले डाल दीजिए।
  • कुकर में ज्यादा भीड़ न रखें।
  • गेंदों को एक दूसरे को छूना नहीं चाहिए।
  • सीटी लगाकर ढक्कन लगाएं और तेज आंच पर 2 सीटी आने तक पकाएं।
  • कुकर को आंच से उतार लें और प्रेशर अपने आप निकलने दें।
  • कुकर खोलें और धीरे से Rasmalai निकालें और कम किया हुआ दूध डालें।
  • इसी तरह सारी Rasmalai बना लीजिये।
  • हर बार कुकर में बॉल्स डालने से पहले 2 से 3 बड़े चम्मच पानी डालें। 
  • परोसने से पहले Rasmalai को कम से कम 5-6 घंटे के लिए फ्रिज में रखें।
  • परोसने से पहले सूखे मेवे की कतरन से सजाएँ।

सुझाव :

  • पनीर बॉल्स को दूध में पकाते समय धीमी आंच पर धीमी आंच पर पकाएं. गेंदों के उचित रूप से पकने और फैलने को सुनिश्चित करने के लिए पैन में बहुत अधिक सामग्री भरने से बचें।
  • Rasmalai बॉल्स को मीठे दूध में पर्याप्त समय तक भिगोने दें ताकि वे स्वाद सोख सकें और नरम हो जाएं।
  • पनीर को गोले का आकार देते समय यह सुनिश्चित कर लें कि वे बराबर आकार के हों। यह एकसमान खाना पकाने और संपूर्ण बनावट को सुनिश्चित करता है।
  • ताजी और उच्च गुणवत्ता वाली सामग्री का उपयोग करें, विशेष रूप से Rasmalai बॉल्स बनाने के लिए उपयोग किए जाने वाले पनीर के लिए अच्छा होता है।
  • रस बनाने के लिए पूर्ण वसा वाले दूध का उपयोग करें।
  • रस बनाते समय कभी भी पतली कढ़ाई का प्रयोग न करें, इससे दूध के जलने की संभावना अधिक रहती है। हमेशा भारी तले वाले पैन का उपयोग करें।
Rasmalai
  • दूध को बार-बार हिलाते रहें क्योंकि दूध पैन के तले में आसानी से जल जाता है।
  • रेडीमेड इलायची पाउडर का प्रयोग न करें. ताज़ी बनी इलायची पाउडर का प्रयोग करें।
  • अपनी पसंद के मेवों का प्रयोग करें।
  • अगर आपको सौंफ पसंद नहीं है तो आप इसे छोड़ भी सकते हैं।
  • गहरा रंग देने के लिए आप खाने वाले पीले रंग का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • चीनी को अपनी पसंद के अनुसार समायोजित करें।
  • फटे हुए दूध को मट्ठे में ज्यादा देर तक न रहने दें। जितनी जल्दी हो सके इसे सूखा दें।
  • पनीर बॉल्स बनाते समय इस बात का ध्यान रखें कि उसमें कोई दरार न हो. अन्यथा, उबालते समय पनीर के गोले चीनी की चाशनी में घुल जायेंगे।
  • गोले बनाते समय यदि आपको दरारें दिखें तो छैना को कुछ मिनिट और मसल लीजिये. अगर आपको लगता है कि छेना का आटा बहुत सूखा है, तो इसमें दूध की कुछ बूंदें छिड़कें और इसे कुछ देर और गूंथ लें।

यह भी देखें :- Aloo Tikki Burger Recipe in Hindi- आलू टिक्की बर्गर रेसिपी

Rasmalai खाने के फायदे :

  • Rasmalai में लगभग 70 फीसदी मिल्क होता है, जो आपके स्वास्थ्य के लिए हेल्दी हो सकता है। दूध शरीर में कैल्शियम की पूर्ति करता है, जिससे हड्डियां मजबूत होती हैं। इसके अलावा दूध से दांतों और मसूड़ों में होने वाली समस्याओं को दूर किया जा सकता है।
  • Rasmalai को सजाने के लिए कई लोग बादाम और केसर का इस्तेमाल करते हैं। बादाम विटामिन ई और बी का काफी अच्छा स्त्रोत माना जाता है। यह आपके मस्तिष्क के विकास के लिए काफी अच्छा हो सकता है। बादाम आपके शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित कर सकता है।
  • Rasmalai को बनाने के दौरान इसमें नींबू का रस मिक्स किया जाता है। नींबू का रस विटामिन सी का अच्छा स्रोत माना जाता है, जो आपकी कई समस्याओं को दूर कर सकता है। खासतौर पर यह इम्यूनिटी बूस्ट करने के लिए जाना जाता है, जो संक्रमण से दूर रखता है।
  • Rasmalai के सेवन से किडनी संबंधित समस्याएं दूर हो सकती हैं। जो लोग पथरी की समस्या से परेशान है वे मलाई का सेवन कर सकते हैं।
Rasmalai
  • रसमिलाई के अंदर विटामिन ए मौजूद होता है। ऐसे में उसके माध्यम से आंखों में नमी बरकरार रहती है और व्यक्ति को रात में देखने में परेशानी नहीं होती। मलाई के सेवन से आंखों के अंदर की परत यानि रेटिना स्वस्थ बना रहता है और जो लोग रात को नहीं देख पाते वे मलाई के सेवन से इश समस्या को दूर कर सकते हैं। इसके अलावा आंखों की अन्य समस्याएं जैसे मैकुलर डिजनरेशन, मोतियाबिंद, ग्लूकोमा आदि समस्याओं के जोखिम को लोग मलाई के सेवन से कम कर सकते हैं।
  • Rasmalai के सेवन से इम्यूनिटी सिस्टम में वृद्धि होती है। ऐसा इसलिए क्योंकि मलाई के अंदर विटामिन ए पाया जाता है जो रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है और संक्रमण को शरीर से दूर रखता है।
  • Rasmalai के अंदर विटामिन b5 पाया जाता है जो न केवल डिप्रेशन, चिंता, तनाव आदि को दूर रखता है बल्कि दिमाग को तंदुरुस्त रखने वाले हार्मोन के काम को सुचारु रुप से करने में मदद करता है।
  • मसूड़ों के स्वास्थ्य के लिए Rasmalai का सेवन एक अच्छा विकल्प है।
  • Rasmalai के अंदर आयरन और मिनरल्स दोनों भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। ऐसे में मिलाई के सेवन से लाल रक्त कोशिकाओं को बढ़ने में मदद मिलती है।

Rasmalai खाने के नुकसान :

  • Rasmalai में चीनी का इस्तेमाल काफी ज्यादा किया जाता है, जो स्वास्थ्य के लिए बिल्कुल भी अच्छा नहीं माना जाता है। इसमें जीरो पोषक तत्व होते हैं। इससे ब्लड शुगर हाई होने की संभावना होती है। साथ ही यह कोलेस्ट्रॉल, मोटापा जैसी परेशानियों को भी बढ़ा सकता है।  
  • अधिक मलाई का सेवन किडनी स्टोन की समस्या को बढ़ा भी सकता है। ऐसे में डॉक्टर की सलाह और उनके द्वारा बताई गई मात्रा के अनुसार ही मलाई का सेवन करें।
Rasmalai
  • Rasmalai के अधिक सेवन से जी मिचलाना, उल्टी आने की समस्या पैदा हो जाती है।
  • Rasmalai की सेवन से दस्त या बार बार मल आना शुरू हो सकता है।
  • Rasmalai के सेवन से कभी-कभी पेट में ऐठन की समस्या भी हो जाती है।
  • पेट फूलने की समस्या Rasmalai के अधिक सेवन से हो सकती है।
  • Rasmalai के सेवन से व्यक्ति को ज्यादा प्यास लगती है।

पोषण :

  • कैलोरी: 13 किलो कैलोरी
  • कार्बोहाइड्रेट: 1 ग्राम
  • सोडियम: 6 मिलीग्राम
  • पोटैशियम: 33 मिलीग्राम 
  • विटामिन ए: 5 आईयू 
  • विटामिन सी: 1.7 मिलीग्राम 
  •  कैल्शियम: 6 मिलीग्राम 
  • आयरन: 0.3 मिलीग्राम

निष्कर्ष :

दोस्तों, मुझे विस्वास है आपको ये Rasmalai की रेसिपी बनाने कि विधि बहुत पसंद आयी होगी। अगर आप  रेस्टोरेंट या होटल का Rasmalai ना खाना चाहे तो आप इस लेख से घर पर ही Rasmalai रेसिपी बनाने का आसान तरीका बताया गया है। जिससे आप रेस्टोरेंट या होटल से लाने की बजाय घर पर आसान तरीकों से बना सकते हैं।

Rasmalai

इसके साथ साथ इस रेसिपी में Rasmalai खाने के फायदे, नुकसान, पोषण और सुझाव बताया गया है। अगर इससे लेकर कोई भी डाउट है तो आप कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है। या फिर अगर आपको इसके अलावा कोई और रेसिपी के बारे में जानना है जो कि मैंने अभी तक नहीं बताया है तो आप कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है। मैं कोशिश करुँगी कि आपके सवालो के जवाब जल्द से जल्द दे दू।

मैं Rasmalai बॉल्स को पकाते समय टूटने से कैसे रोकूँ?

यदि Rasmalai के गोले टूट रहे हैं, तो यह पनीर की अपर्याप्त बाइंडिंग के कारण हो सकता है। सुनिश्चित करें कि पनीर को तब तक अच्छी तरह से गूंधें जब तक वह आसानी से एक साथ न आ जाए और बहुत अधिक दबाव डाले बिना उन्हें धीरे से आकार दें।

Rasmalai और रबड़ी Rasmalai में क्या अंतर है?

Rasmalai एक पारंपरिक भारतीय मिठाई है जहां नरम पनीर के गोले को मीठे दूध में भिगोया जाता है, जबकि रबड़ी Rasmalai एक प्रकार है जहां Rasmalai के गोले को गाढ़े और सुगंधित दूध की एक अतिरिक्त परत जिसे रबड़ी कहा जाता है, के साथ परोसा जाता है, जो मिठाई की समृद्धि और स्वाद को बढ़ाता है।

क्या पनीर से Rasmalai बनाई जा सकती है?

हाँ, आप पनीर/छेना बनाने की बजाय पनीर से Rasmalai बना सकते हैं। सुनिश्चित करें कि पनीर ताजा और नरम हो और इसे चिकना होने तक गूंथ लें और फिर गोले बनाकर उन्हें चपटा कर लें। चाशनी और रस में भिगोने की बाकी प्रक्रिया वही रहेगी।

क्या रसमलाई एक स्वस्थ मिठाई है?

यह एक स्वास्थ्यवर्धक मिठाई है जो कैल्शियम और प्रोटीन से भरपूर है । इसे बादाम, पिस्ता, केसर और अन्य सूखे मेवों जैसे विभिन्न टॉपिंग से सजाया जाता है।

क्या रसमलाई में प्रोटीन होता है?

रसमलाई में कम नमक, कम चीनी, उच्च कैल्शियम, उच्च प्रोटीन और उच्च खनिज सामग्री होती है। यहां तक ​​कि मधुमेह रोगी भी अपने रक्त शर्करा के स्तर के आधार पर कभी-कभार कम चीनी या बिना चीनी वाली Rasmalai का सेवन कर सकते हैं।

रसमलाई को कैसे खाते हैं?

रसमलाई गरम खाई जाती है या ठंडी? इसे ठंडा ही परोसा जाना चाहिए। इसलिए तदनुसार योजना बनाएं, आगे बढ़ें, परोसने से पहले 4 से 5 घंटे या रात भर के लिए रेफ्रिजरेटर में ठंडा करें।

हमारे WhatsApp Group से जुड़े Join Now

Leave a comment