Gulab Jamun Recipe in Hindi- घर में कैसे बनाए गुलाब जामुन

हमारे WhatsApp Group से जुड़े Join Now

दोस्तों, Gulab jamun को रोज बैरी भी कहा जाता है, रोज का मतलब गुलाब और जामुन गहरे परपल रंग की बैरी। Gulab jamun यह उत्तर भारत की मिठाई है। यह

Gulab jamun

दोनों तरीके से गुलाब जामुन अच्छे बनते हैं। और त्यौहारों के मौसम में मिठाई खाना हर किसी को अच्छा लगता है। मार्केट में बनने वाले महंगे गुलाब जामुन खरीदने से अच्छा है कि आप इस दिवाली घर पर ही गुलाब जामुन बनाएं। बहुत से लोगों के गुलाब जामुन सॉफ्ट नहीं बनते हैं इसलिए हम आपको रेसिपी के साथ-साथ कुछ टिप्स भी देंगे। आइये जानते है गुलाब जामुन बनाने का आसान तरीका क्या है।

Gulab jamun बनाने की सामग्री :-

दोस्तों, परफेक्ट गुलाब जामुन बनाने के लिए आपको साधारण सी सामग्री की जरूरत होती है। इसे खोए, इलाइची और चीनी की चाशनी के साथ बनाया जाता है।

  • 250 ग्राम मावा (खोया)
  • 500 ग्राम चीनी
  • 3 चम्मच मैदा
  • 1 से 2 चम्मच बेकिंग पाउडर
  • 1 से 4 चम्मच इलायची का पाउडर
  • तलने के लिए तेल या घी
  • अव्यश्कता के अनुसार पानी
  • केसर की कुछ लड़िया
  • सजावट के लिए कुछ कटे हुए पिस्ता और बादाम

Gulab jamun बनाने की विधि :-

Gulab jamun

  • अब इसे ढककर रख देंगे ।

Gulab jamun की चाशनी कैसे तैयार करें-

  • चाशनी बनाने के लिए एक बर्तन में दो कप चीनी और दो कप पानी डालकर चीनी को पानी में अच्छे से मिक्स कर देंगे। अब गैस ऑन करके इसे तब
  • चिपचिपी ना हो जाए।
  • अब इसमें इलायची पाउडर डालकर अच्छे से मिक्स करेंगे।
Gulab jamun

  • अब थोड़ा-थोड़ा मिश्रण लेकर इसकी मीडियम साइज की गोलियां बना लेंगे। इसी तरह से सभी गोलियां बनाकर तैयार कर लें।
  • एक कड़ाही में तेल गर्म करेंगे मीडियम गरम तेल में Gulab jamun की बॉल्स को एक-एक करके तेल में डाल देंगे जितनी एक बार में आ जाए।
  • अब इन Gulab jamun की बॉल्स को तेल से निकालने के बाद तुरंत ही इसे हल्की गर्म चाशनी में डालते जाएंगे।
  • इन्हें 3 से 4 घंटे तक चासनी में रखने के बाद सर्व करें जिससे की चासनी Gulab jamun के बॉल्स अंदर तक अच्छे से जा सके।
  • मावा की बहुत ही सॉफ्ट Gulab jamun बनकर तैयार है।

सुझाव :-

  • Gulab jamun को तलने से पहले सबसे पहले एक Gulab jamun की बॉल्स डालकर चेक करें अगर बॉल्स टूट कर बिखर जाए तो इसमें थोड़ी सी मैदा डालकर अच्छे से मिला लें।

यह भी देखें :- Egg Biryani Recipe in Hindi-घर पर कैसे बनाए अंडा बिरयानी

  • कैलोरी – 160
  • कार्ब्स – 24 ग्राम
  • फाइबर – 0
  • स्टार्च – 0
  • शुगर – 20 ग्राम
  • प्रोटीन – 4 ग्राम
  • फैट – 7 ग्राम
  • कोलेस्ट्रॉल – 17 mg
  • कैल्शियम – 130 mg
  • सोडियम – 55 ग्राम
  • विटामिन ए – 60 mg

गुलाब जामुन खाने के फायदे :-

  • गुलाब जामुन के चीनी में होता है जो आपके दांतों की गंदगी को दूर करता है। गुलाब जैमिन अधिक मीठा है तो यह आपके दांतों में मौजूद बैक्टीरिया को बाहर निकालने का काम करता है।
  • अगर आपका ब्लड प्रेशर लो रहता है तो गुलाब जामुन आपके लिए काफी खतरनाक होता है। यदि आपको भी ब्लड प्रेसर की समस्या है तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें। और जो सलाह देते हैं उनका सेवन करने से आपकी ये समस्या सही हो सकती है।
Gulab jamun
  • गुलाब जामुन खाने का एक फायदा यह भी है कि यह आपकी त्वचा को खराब होने से बचाने का काम करता है। इसके अंदर मौजूद ग्लायकोलिक एसिड आपकी त्वचा को
  • अगर आप पहले से ही मोटो हैं तो फिर आपको अधिक मात्रा में गुलाब जामुन का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • यदि आपके शरीर की रोग संबंधी क्षमता काफी अधिक घट जाती है तो इससे नुकसान हो सकता है।
  • गुलाब जामुन के सेवन से कैंसर का खतरा काफी ज्यादा बढ़ जाता है। क्यूंकि चीनी में जिन न्यूट्रल के कारण कैंसर होने की संभावना काफी अधिक होती है।

गुलाब जामुन खाने के नुकसान :-

  • गुलाब जामुन खाने से डायबिटीज मरीजों का शुगर लेवल काफी ज्यादा हाई हो सकता है क्योंकि इसमें शुगर की मात्रा काफी ज्यादा होती है। 70 ग्राम के गुलाब जामुन में  करीब 20 ग्राम शुगर होता है। ऐसे में आप अंदाजा लगा सकते हैं कि यह आपके शुगर स्तर को कितने हद तक प्रभावित कर सकता है।
  • कोलेस्ट्रॉल मरीजों को भी गुलाब जामुन से परहेज करने की सलाह दी जाती है। इसमें कोलेस्ट्रॉल भी काफी ज्यादा होता है। अगर आप इसका सेवन करते हैं, तो यह खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ा सकता है।
  • गुलाब जामुन में चीनी का मात्रा काफी ज्यादा होती है। ऐसे में अगर आप इसका अधिक मात्रा में सेवन करते हैं, तो यह शरीर में सूजन को बढ़ा सकता है।
  • वजन कम करने के दौरान अगर आप गुलाब जामुन का सेवन करते हैं, तो यह आपकी मेहनत पर पानी फेर सकता है। इसमें वे सभी तत्व होते हैं, जो आपके शरीर के वजन को बढ़ा सकते हैं। इसलिए कोशिश करें कि वजन घटाने के दौरान गुलाब जामुन से दूरी बनाकर रखें।
  • गुलाब जामुन स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह होता है। इसलिए कम से कम मात्रा में इसका सेवन करें। वहीं अगर आपको कोई बीमारी या समस्या है, तो एक्सपर्ट से सलाह लेकर

Gulab jamun खाने के लिए बरतें ये सावधानियां:-

Gulab jamun
  • बच्चों को भी कम से कम गुलाब जामुन खाने के लिए दें। यह उनके स्वास्थ्य को भी प्रभावित कर सकता है। 
  • घर पर हेल्दी तरीके से गुलाब जामुन तैयार करके खाएं।

निष्कर्ष :-

दोस्तों, मुझे विस्वास है आपको ये गुलाब जामुन की रेसिपी बनाने कि विधि बहुत पसंद आयी होगी। अगर कोई बाजार का गुलाब जामुन ना खाना चाहे तो आप इस लेख से घर पर ही गुलाब जामुन बनाने का आसान तरीका बताया गया है। जिससे आप रेस्टोरेंट या होटल से लाने की बजाय घर पर आसान तरीकों से बना सकते हैं।

इसके साथ साथ इस रेसिपी में गुलाब जामुन खाने के फायदे और नुकसान दोनों ही बताए गए हैं। अगर इससे लेकर कोई भी डाउट है तो आप कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है।  या फिर अगर आपको इसके अलावा कोई और रेसिपी के बारे में जानना है जो कि मैंने अभी तक नहीं बताया है तो आप कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है। मैं कोशिश करुँगी कि आपके सवालो के जवाब जल्द से जल्द दे दू।

Gulab jamun क्या है?

यह एक लोकप्रिय मिठाई भारतीय डोनट रेसिपी है जो दूध के ठोस पदार्थ या दूध के सांद्रण से बनाई गई है। दूध के सॉलिड मसाले से बने बॉल्स को घी में डीप पर फ्री कर दिया जाता है, जिसके बाद बाद में चीनी की चाशनी में डबाया किया जाता है। सिरप मिलाने से नर और नाम फर्म की मदद मिलती है।

Gulab jamun सख्त क्यों हो जाते है?

 इसका कारण यह हो सकता है कि आटा अधिक गूँथा हुआ था। इसे गूंथने के लिए आपको अपनी हथेलियों का इस्तेमाल करना चाहिए ताकि यह छोटी सी चिपचिपी हो जाए। इसके अलावा, यदि आप इन गेंदों को अधिक तलते हैं, तो यह सख्त हो सकता है। आदर्श रूप से, आपको विविधता बनाए रखने के लिए सुनहरा भूरा होने तक तलना होगा।

 1 दिन में कितने Gulab jamun खाने चाहिए?

Gulab jamun में तेल और चीनी की मात्रा काफी ज्यादा होती है, इसलिए पूरे दिन में 1 से 2 पीस से अधिक Gulab jamun का सेवन न करें।

Gulab jamun में कौन सा विटामिन होता है?

Gulab jamun (ब्लैकबेरीज़) में भरपूर कैल्शियम और विटामिन K होता है जो आपकी हड्डी को मज़बूत बनाने और ऑस्टियोपोरोसिस से लड़ने में मदद करता है।

Gulab jamun और रसगुल्ले में क्या अंतर है?

Gulab jamun बनाने के लिए मैदा और खोया को साथ में गूंथा जाता है और फिर इसकी छोटी-छोटी बॉल्स बनाई जाती हैं. वहीं, रसगुल्ला बनाने के लिए दूध को फाड़कर इसका पनीर बनाया जाता है और इसकी बॉल्स बनाई जाती हैं।

क्या Gulab jamun खाने के बाद पानी पी सकते हैं?

Gulab jamun खाने के तुरंत बाद पानी पीना कई स्वास्थ्य खतरों को निमंत्रण देने जैसा है। जामुन के साथ पानी खाने से डायरिया और अपच जैसी समस्याएं हो सकती हैं। इन्हें खाने के 30 से 40 मिनट बाद ही अपनी प्यास बुझाने की सलाह दी जाती है।

Gulab jamun में कितना फैट होता है?

Gulab jamun के दो टुकड़ों में 300 कैलोरी, 15 ग्राम फैट होता है।

हमारे WhatsApp Group से जुड़े Join Now

1 thought on “Gulab Jamun Recipe in Hindi- घर में कैसे बनाए गुलाब जामुन”

Leave a comment