Besan Ki Barfi Recipe in Hindi- घर में बेसन की बर्फ़ी कैसे बनाए

हमारे WhatsApp Group से जुड़े Join Now

दोस्तों, Besan ki barfi एक पारंपरिक भारतीय मिठाई है जो बेसन, चीनी और घी से बनी एक हेल्दी और स्वादिष्ट बर्फी है। उत्तर भारत में बेसन के बर्फी काफी लोकप्रिय है। जिसे बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक सभी पसंद करते हैं। स्वास्थ्य के लिए भी Besan ki barfi लाभकारी होती है और इसे आसानी से तैयार किया जा सकता है। कोई खास मौका हो या फिर किसी भी दिन, Besan ki barfi को कभी भी बनाकर खाया जा सकता है।

Besan ki barfi

दोस्तों मिठाई खाना सबको पसंद है लेकिन बहुत लोगो का यह मानना होता है के इसे तो सिर्फ हलवाई ही बना सकता है। ऐसा बिलकुल भी नहीं है इसे आप त्यौहार या किसी भी दिन हमारे बताये गए ट्रिक से आसानी से बना सकते हो। अपने घर के बच्चो को बाहर की मिठाई खिलाने से अच्छा है की अपने ही घर पर बनाकर अपने बच्चो को खिलाये। इस रेसिपी को एक बार जरूर ट्रॉय करे।

Besan ki barfi बनाने की सामग्री :-

तीन तरह की सामग्री से तैयार की जाने वाली बर्फी बेसन, घी और चाश्नी से तैयार की जाती है। इसे त्योहारों पर तो बनाकर खा सकते हैं साथ ही अगर आपका कुछ मीठा खाने का मन तो भी इसे बनाया जा सकता है।

  • बेसन- 1 कटोरी थोड़ा मोटा 
  • घी- आधा कटोरी 
  • दूध- 4 बड़े चम्मच 
  • इलायची- 4 पिसी हुई
  • नारियल- कसा हुआ सजावट के लिए
  • चीनी : 1 कप (200ml)
  • स्वादानुसार शक्कर 
  • पिस्ता, बादाम- 5-5 कटे हुए
  • केसर- 8-10 धागे
  • पानी आवस्यकता अनुसार
  • सजाने के लिए चांदी का वर्क

Besan ki barfi बनाने की विधि:-

  • एक मोटे तले की कढ़ाई लेंगे और इसमें 1कप (200ml) बेसन डालेंगे।
  • इसके बाद इसमें ½ कप (100ml) देसी घी डालेंगे।
  • अब सारी सामाग्री को अच्छे से मिला लेंगे और इसे धीमी आंच पर अच्छे से लगातार चलाते हुए पकाना शुरू करेंगे।
  • इसे लगभग 1मिनट तक पका लेंगे।
  • चीनी को धीमी आंच पर पिघला लेंगे और इसे लगातार चलाते रहेंगे।
  • अब जो बेसन वाला मिश्रण है उसमे चाशनी डाल देंगे और अच्छे से मिला लेंगे।
  • कढ़ाई को धीमी आंच पर गर्म होने रख देंगे और लगातार चलाते हुए ½ मिनट के लिए पका लेंगे।
  • अब इसमें 1 बड़ा चम्मच देसी घी डालेंगे और अच्छे से मिलाते हुए ½ मिनट तक पका लेंगे।
Besan ki barfi
  • इसके बाद इसमें 1 बड़ा चम्मच देसी घी और डालेंगे और इसे वापस ½ मिनट के लिए पका लेंगे।
  • (ध्यान रहे आंच को धीमा ही रखे नहीं तो आपकी बर्फी सख़्त हो सकती है)
  • अब इसमें 1 बड़ा चम्मच देसी घी और डालेंगे और इसे ½ मिनट के लिए पका लेंगे।
  •  जब मिश्रण गाढ़ा होने लगे।आंच को बंद कर देंगे और मिश्रण को ठंडा कर लेंगे।
  • एक ट्रे या थाली लेंगे उसमें अच्छे से घी लगा लेंगे।
  • मिश्रण को ट्रे में निकाल लेंगे और 5 मिनट के लिए ठंडा होने रख देंगे।
  • अब इसके ऊपर बारिक कटे हुए पिस्ता और बर्फी कटे हुए बादाम डालेंगे। 
  • अब इसे 10 मिनट के लिए वापस ठंडा होने रख देंगे।
  • इसके बाद इसे बर्फी को आकार में काट लेंगे।
  • (आप अपनी इच्छानुसार किसी भी आकार में इसे काट सकते हैं)
  • अब इसे 30 मिनट के लिए ठंडा होने रख देंगे।
  • Besan ki barfi को और स्वादिष्ट बनाने के लिए आप इसमें बादाम के साथ साथ इसमें पिस्ता और इलाइची भी डाल सकते है।

सुझाव :-

  • चाशनी को चैक करते हुये पकायें। Besan ki barfi अगर 6 घंटे में भी जमकर तैयार न हो तो बर्फी को फिर से कढ़ाई में डालें और गरम होने पर या घी पिघलने पर 2-3 मिनिट भूनें और फिर से जमा दें।
  • Besan ki barfi अगर बहुत सख्त हो गई हो तब कढ़ाई में 2 टेबल स्पून दूध डालें, गरम करें और सख्त बर्फी को गरम दूध में डाल दें, धीमी गैस पर बर्फी को कलछी से तोड़ते हुये नरम होने तक पकायें और जैसे ही मिश्रण एकसार लगने लगे बर्फी को फिर प्लेट में घी लगाकर जमादें, बर्फी सोफ्ट होकर जम जायेगी।
Besan ki barfi
  • अगर आप इसे और भी दिलचस्प बनाने के लिए अपनी पसंद के सूखे मेवे मिला सकते हैं।
  • अंत में, Besan ki barfi रेसिपी में आप इसे सुपर नम बनाने के लिए मावा या दूध भी मिला सकते हैं।
  • यदि आपके पास खरबूजे के बीज नहीं हैं, तो इसे छोड़ दें।
  • बेसन को अच्छे से भूनना है।
  • भारी आटे का प्रयोग करें।
  • चाशनी को एक तार होने तक पकाये।
  • गरम चाशनी ही बेसन में डाले।

Besan की बर्फी बनाने वक़्त ध्यान देने वाली बाते :-

  • Besan ki barfi को और ज्यादा स्वादिष्ट हलवाई जैसा बनाने के लिए मोटे दरदरे बेसन का इस्तेमाल करें।
  •  बेसन को धीमी आंच पर लगातार चलाते हुए भुने ताकि बेसन कढ़ाई के तले में ना लगे या जले ना। नहीं तो जले बेसन का स्वाद कड़वा हो सकता है। 
  • बेसन के हलका भूरे रंग आने पर तुरंत कड़ाई से प्लेट में निकाल ले। क्योंकि कढ़ाई गरम रहती है। अगर बेसन को कढ़ाई में ही छोड़ दिया तो बेसन ज्यादा रेड हो सकता है।
  • Besan ki barfi का मिश्रण अगर ज्यादा टाइट हो जाए तो थोड़ा दूध मिलाकर फिर से हल्का भून ले।
  • मेवे आप अपनी पसंद से डाल सकते हैं। अगर कोई मेवा आपके पास नहीं है तो इलायची पाउडर ही मिक्स कर उसी से अच्छा टेस्ट ले लीजिए।
  • Besan ki barfi (Besan ki barfi) अगर 5-6 घंटे में भी जम न जाये तो क्रेकही में Besan ki barfi के मिश्रण को डाल दीजिये और गरम होने या पिघलने तक तैयार कर लीजिये, इसके बाद प्लेट को फिर से तल लीजिये। मिश्रण को 5-6 घंटे बाद पीस लें।
  • बेसन जमते समय आटा लगे, इसका मतलब है कि आपको इसकी बर्फीली नहीं जमेगी तो थोड़ा सा दूध केकड़े में ही नारियल गरम कर लीजिए, इसमें Besan ki barfi (Besan ki barfi) के मिश्रण को डाल कर गरम कर लीजिए या फिर इसे पिघला लीजिए, इसके बाद प्लेट को फिर से तैयार कर लीजिए। मिश्रण को 5-6 घंटे बाद पीस लें।

पोषण तत्व :-

कार्बोहाइड्रेट: 34 ग्रा

प्रोटीन:         4 ग्रा

वज़न:         10 ग्राम 

चीनी:          26 ग्रा

विटामिन ए:  5 आईयू

कैल्शियम:    9 मिलीग्रा

आयरन:      0.9 मिलीग्राम

Besan की बर्फी खाने के फायदे :-

  • बेसन को कम कार्बोहाइड्रेट और कम शुगर वाले खाद्य पदार्थों में गिना जाता है। इसलिए, बेसन के सेवन से रक्त में मौजूद शर्करा को नियंत्रित किया जा सकता है।
  • आयरन की कमी से एनीमिया होता है। इससे थकान, कमजोरी, सांस लेने में तकलीफ व ह्रदय गति के असामान्य होने की समस्या हो सकती है।  वहीं, बेसन फाइबर और प्रोटीन युक्त होता है। साथ ही इसमें फोलेट और आयरन भी पर्याप्त मात्रा में होता है। फोलिक एसिड और विटामिन-बी12 की कमी के कारण मेगालोब्लास्टिक एनीमिया हो जाता है, जिसमें लाल रक्त कोशिकाओं और प्लेटलेट्स की संख्या में कमी आ सकती है। इस प्रकार बेसन खाने के फायदे में पर्याप्त आयरन को प्राप्त करना भी है।
  • बेसन में कार्बोहाइड्रेट (अच्छा कार्ब) की मात्रा पाई जाती है, जो मोटापे को बढ़ने नहीं देता। साथ ही इसमें पर्याप्त मात्रा में उच्च घुलनशील फाइबर होता है, जो ह्रदय को
  • इसके सेवन से हड्डियां मजबूत होती हैं। इसमें मौजूद कैल्शियम, मैग्नीशियम और अन्य महत्वपूर्ण खनिज हमारी हड्डियों को मजबूत बनाते हैं। इसके अंदर मौजूद फास्फोरस शरीर के अंदर कैल्शियम के साथ मिलकर हड्डियों के निर्माण में सहायक होता है। बेसन के उपयोग से ऑस्टियोपोरोसिस जैसी स्थिति से बचा जा सकता है।
Besan ki barfi
  • बेसन में फाइबर व कार्बोहाइड्रेट प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। फाइबर से पाचन की प्रक्रिया धीमी हो जाती है, जिससे शरीर को भरपूर ऊर्जा मिल पाती है। साथ ही बेसन थियामिन विटामिन का भी अच्छा स्रोत है, जो भोजन को ऊर्जा में परिवर्तित कर थकान को दूर करता है।
  • इसके सेवन से हमारी रोगप्रतिरोधक क्षमता यानी इम्यूनिटी सिस्टम बेहतर होता है। इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्त्व प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करते हैं। इसलिए, जो लोग अक्सर बीमार पड़ जाते हैं, उनके लिए बेसन बहुत लाभदायक सिद्ध हो सकता है।
  • बेसन का उपयोग करने से रक्तचाप को भी नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है। एक स्वस्थ व्यक्ति को दिनभर में 2300 मिली ग्राम से ज्यादा सोडियम नहीं लेना चाहिए। इससे ज्यादा लेने पर रक्तचाप असंंतुलित हो सकता है।
  • बेसन का उपयोग करने वालों को शायद ही पता होगा कि इसके अंदर कई औषधीय गुण मौजूद हैं, जिनमें से एक है कैंसर प्रतिरोधि गुण। बेसन में उच्च फाइबर मौजूद होता है, जाे एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करता है। साथ ही इसमें पाया जाने वाला ब्यूटिरेट नामक मुख्य यौगिक कैंसर कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता है।
  • सूजन से बचाव के लिए बेसन का सेवन लाभकारी हो सकता है। बेसन के गुण में सूजन को कम करना भी है। इसमें फाइबर और फाइटोन्यूट्रिएंट्स की मात्रा अधिक होती है, जो सूजन को कम करती है। बेसन फेनोलिक यौगिकों का एक समृद्ध स्रोत है, जो सूजन को कम करने में कारगर है।
  • बेसन का उपयोग कर हम त्वचा के रोगों से बचकर अपनी खूबसूरती को बढ़ा सकते हैं। बेसन के उपयोग से त्वचा के लिए कई फायदे हैं।

Besan खाने के नुकसान :-

  • बेसन फाइबर का अच्छा स्रोत होता है। अगर फाइबर का सेवन अधिक मात्रा में किया जाए, तो यह पेट के लिए हानिकारक हो सकता है, क्योंकि इससे दस्त के साथ गैस की समस्या भी हो सकती है।
  • जिन्हें बेसन से एलर्जी या फिर किडनी से संबंधित समस्या हो, तो उन्हें भी बेसन का सेवन नहीं करना चाहिए।

यह भी देखें :- Shahi Tukda Recipe in Hindi- घर पर बनाए स्वादिष्ट मिठाई शाही टुकड़ा

निष्कर्ष :-

दोस्तों, मुझे विस्वास है आपको ये Besan ki barfi की रेसिपी बनाने कि विधि बहुत पसंद आयी होगी। अगर कोई बाजार का Besan ki barfi ना खाना चाहे तो आप इस लेख से घर पर ही Besan ki barfi बनाने का आसान तरीका बताया गया है। जिससे आप रेस्टोरेंट या होटल से लाने की बजाय घर पर आसान तरीकों से बना सकते हैं।

Besan ki barfi

इसके साथ साथ इस रेसिपी में Besan ki barfi l खाने के फायदे और नुकसान दोनों ही बताए गए हैं। अगर इससे लेकर कोई भी डाउट है तो आप कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है।  या फिर अगर आपको इसके अलावा कोई और रेसिपी के बारे में जानना है जो कि मैंने अभी तक नहीं बताया है तो आप कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है। मैं कोशिश करुँगी कि आपके सवालो के जवाब जल्द से जल्द दे दू।

यह बर्फी कितने दिनों तक चलेगी?

यह Besan ki barfi महीने भर आराम से बिना ख़राब हुए अच्छी बनी रहती है।

Besan ki barfi सेट ना हो तो क्या करें?

यदि किसी कारण बर्फी सेट ना हो तो इसके लिए बर्फी को दुबारा पैन में ट्रान्सफर कर के भुन लें। और इस मिश्रण को थोडा गाढ़ा होने दें। इसके बाद सेट करें।

बेसन में कौन कौन से तत्व पाए जाते हैं?

 इसमें आयरन, फाइबर, पोटैशियम, मैंगनीज और कई पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो शरीर के लिए काफी फायदेमंद हैं। आप अपने स्वाद के अनुसार बेसन से टेस्टी और हेल्दी फूड्स बना सकते हैं। बेसन में फाइबर और प्रोटीन पाए जाते हैं।

बेसन कब नहीं खाना चाहिए?

कब्ज होने पर कब्ज की समस्या से हम में से ज्यादातर लोग परेशान रहते हैं और बेसन व सूजी का सेवन इस परेशानी को और बढ़ा सकती है।

हमारे WhatsApp Group से जुड़े Join Now

1 thought on “Besan Ki Barfi Recipe in Hindi- घर में बेसन की बर्फ़ी कैसे बनाए”

Leave a comment