सत्तू के पेड़े कैसे बनाए-Sattu peda Recipe in Hindi

हमारे WhatsApp Group से जुड़े Join Now

दोस्तों, सत्तू के पेड़े को बनाना बहुत  आसान है। इस पेड़े को आप दुकान से लाने की बजाय अपने घर पर आसान तरीके से बनाकर सबको खिला सकते हो क्यूंकि इसको बनाने में ज्यादा मेहनत नहीं लगता। सत्तू के पेड़े खाने में बहुत ही स्वादिस्ट लगता है। सत्तू के पेड़े चने को पिसके बनाते है।

सत्तू के पेड़े

सत्तू के पेड़े की सामग्री:-

  • एक कप चना सत्तू
  • एक से दो कप मावा
  • 1 से 2 छोटी चम्मच इलायची पाउडर
  • 8 से 10 केसर के धागे
  • एक से दो कप या स्वाद अनुसार चीनी
  • केवड़ा एसेंस या बंदे रोज अपनी आवश्यकता अनुसार
  • एक छोटी चम्मच पिस्ता कतरन
  • घी एक से दो कप
  • काजू सजाने के लिए

सत्तू के पेड़े बनाने की विधि :-

  • सबसे पहले भुने हुए चने के छिलके निकाल कर साफ कर ले। चना को मिक्सर जार में डालकर पीस के पाउडर बना ले। केसर को भी दो से तीन चम्मच दूध में भिगोकर रख दे।
  • अब एक पेन में मावे को भून ले। मावा भूनने के बाद चीनी डालें और एक से दो मिनट के लिए और अच्छे से पका ले।
  • अब एक बर्तन में चना सत्तू डालें। भुना हुआ मावा डालें। साथ में इलायची पाउडर, दूध में भिगोई हुई केसर और एसेंस डालकर सभी को अच्छी तरीके से मिला ले।
  • अब तैयार मिश्रण से समान आकार के पेड़े बना ले और ऊपर से पिस्ता कतरन से गार्निश कर दे।

Read more :- मोदक रेसिपी (गणेश चतुर्थी स्पेशल)-Modak Recipe in Hindi

सत्तू के पेड़े का पोषण मुल्य :-

  • सत्तू एक पौष्टिक प्रोटीन भोजन है। यह तुरंत ऊर्जा प्रदान करता है। लू और सुस्ती से बचाता है और पूरे दिन पेट भर रखता है।
  • सत्तू आपकी आंत के लिए बहुत कामगार है। यह आपके पाचन तंत्र को अच्छी तरह से प्रबंधित रखता है।
  • कब्ज पेट फूलना अम्लता को नियंत्रित रखता है। यह आपकी त्वचा और बालों के लिए बहुत फायदेमंद है, क्योंकि यह बालों की जड़ों को आक्सीजन प्रदान करके बालों की गुणवत्ता में सुधार करता है।

निष्कर्ष:-

सत्तू के पेड़े

मुझे विस्वास है आपको ये सत्तू के पेड़े बनाने कि विधि बहुत पसंद आयी होगी | उम्मीद है कि आपको सत्तू के पेड़े बनाने का तरीका समझ में आ गया होगा। अगर आपको कोई और सामग्री को लेकर कंफ्यूजन है तो हमें नीचे कमेंट करके जरूर बताएं। या फिर अगर आपको इसके अलावा कोई और रेसिपी के बारे में जानना है जो कि मैंने अभी तक नहीं बताया है तो आप कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है |

Sattu peda Recipe in Hindi

Sattu peda, एक खास और स्वादिष्ट मिठाई है जो आप अपने परिवार और मित्रों के साथ साझा करने के लिए बना सकते हैं। यह पुराने समय की यादों को ताजा करता है और स्वादिष्ट अंदाज में भारतीय मिठाइयों का स्वाद दिलाता है। यह लोगों के बीच बड़ी पसंद की जाती है और यह बनाने में भी सरल है।

आवश्यक सामग्री

  • 1 कप सत्तू (बंगाल चने का आटा)
  • 1/2 कप घी
  • 1/2 कप चीनी
  • 1/4 कप खोया
  • 1/4 कप दूध
  • 1/2 छोटी चम्मच इलायची पाउडर
  • 1/4 कप आमला का सांचा

चरण 1: सत्तू (बंगाल चने का आटा) को भूनना

पहले, एक कढ़ाई में सत्तू को हल्के सुखाने के लिए मध्यम आंच पर डालें। सत्तू को नीला होने तक अच्छी तरह से भून लें। इससे सत्तू का स्वाद और भी अधिक बढ़ जाएगा।

चरण 2: पेड़ा मिश्रण तैयार करना

अब, एक बड़े बाउल में भूना हुआ सत्तू डालें। इसमें घी, चीनी, खोया, दूध और इलायची पाउडर डालकर अच्छी तरह मिला लें। आमला का सांचा डालें और फिर से मिला लें।

चरण 3: पेड़े बनाना

अब, मिश्रण को बर्तन की तरह सौंपने का समय है। मिश्रण को छोटे-छोटे पेड़ों में बनाएं और हर एक पेड़े को आमला से सजाएं।

चरण 4: सजावट और प्रस्तुति

आपके सत्तू पेड़े तैयार हैं! आप इन्हें एक सुंदर प्लेट पर सजा सकते हैं और अपने परिवार और मित्रों के साथ आनंद उठा सकते हैं।

सत्तू पेड़े के विभिन्न रूप

  • आप सत्तू पेड़े में ड्राई फ्रूट्स जैसे किशमिश या बादाम भी डाल सकते हैं।
  • आप इन्हें गुढ़ या शहद के साथ भी परोस सकते हैं, जिससे इनका स्वाद और भी मिठा बनेगा।

सत्तू पेड़े के स्वास्थ्य लाभ

सत्तू पेड़े का सेवन सेहत के लिए भी फायदेमंद होता है। यह ऊर्जा और प्रोटीन का अच्छा स्रोत है, और इसमें बड़ी मात्रा में फाइबर भी होता है।

सत्तू पेड़े भारतीय संस्कृति में

सत्तू पेड़े भारतीय संस्कृति में महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं। यह विभिन्न त्योहारों और खास अवसरों पर तैयार किए जाते हैं और लोगों के बीच एकता और प्यार का प्रतीक होते हैं।

टिप्स और ट्रिक्स

  • सत्तू को अच्छी तरह से भूनने से पेड़े का स्वाद और भी अधिक बढ़ता है।
  • आमला का सांचा सत्तू पेड़े को और भी स्वादिष्ट बनाता है।

सत्तू किस चीज से बनता है?

सत्तू अनाज या चने को सुखाकर भूनकर फिर पीसकर तैयार किया जाता है।

सत्तू का पेड़ा कब नहीं खाना चाहिए?

यदि आपको गैस की समस्या है तो सत्तू का अधिक सेवन नहीं करना चाहिए।
कब्ज और अपच की समस्या होने पर भी सत्तू का सेवन नहीं करना चाहिए।
यदि आपको पथरी की समस्या है तो आप सत्तू को लेने से बचे।

क्या मैं सत्तू के पेड़ रोजाना खा सकती हूं?

सत्तू में विशहरण गुण होते है। रोजाना इसका सेवन आपको स्वस्थ रखता है।  कई स्वास्थ्य संबंधी बीमारियों से बचाता है।

हमारे WhatsApp Group से जुड़े Join Now

1 thought on “सत्तू के पेड़े कैसे बनाए-Sattu peda Recipe in Hindi”

Leave a comment